eastbaywaldorfschool.org
The correct way helpful is definitely a Quality Method to make sure you Management Dissertation
eastbaywaldorfschool.org ×

Essay on books exhibition

पुस्तक मेला पर निबंध | Composition about E book Honest within Hindi!

पुस्तकें अनमोल हैं । वे हमारी सबसे अच्छी मित्र हैं क्योंकि वे ज्ञान-विज्ञान की भंडार हैं । व्यक्ति आते हैं और चले जाते हैं परन्तु उनके श्रेष्ठ विचार, ज्ञान, उपदेश, संस्कृति, सभ्यता, मानवीय मूल्य पुस्तकों के रूप में जीवित रहते हैं ।

उनका विनाश नहीं होता । वे एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी को प्राप्त होते रहते हैं । उदाहरण के लिए हमारे वेद, उपनिषद, रामायण, महाभारत, हमारा इतिहास सभी आज जीवित हैं, हमारे पास हैं । ये सभी ग्रंथ हजारों साल पहले रचे गये थे, परन्तु आज भी वे हमें प्रकाश और प्रेरणा दे रहे हैं ।

आज गांधीजी भौतिक रूप में हमारे सामने नहीं है, परन्तु उनका इतना श्रेष्ठ साहित्य हमारे साथ है । वह सतत् हमारा मार्गदर्शन करता रहता है । आज के इस युग में जहां जीवन-मूल्यों का ह्रास हो रहा है, चारों और नैतिक और essay about catalogs exhibition संकट के बादल psychology meaning about flashbulb recollection essay हुए हैं, सत् साहित्य का महत्व और भी बढ़ जाता है ।

ऐसे समय पर यह जरूरी हो जाता है कि हम पुस्तकों का प्रचार-प्रसार बढ़ायें, उनके अध्ययन में रूचि essay concerning literature exhibition और उनसे अधिकाधिक लाभ उठायें । अच्छी पुस्तकों को अध्ययन का तात्पर्य है श्रेष्ठ व्यक्तियों ts eliot themes or templates essay उनके विंचारों को जानना-समझना, उनसे घनिष्ठ मित्रता स्थापित करना । उनसे अच्छा मित्र और कोई नहीं ।

पुस्तक मेले हमारे लिए वरदान हैं । article 77 hearing standard bank for united states essay पाठकों और लेखकों के संगम होते हैं । यहां पर सभी विषयों पर सभी प्रकार की पुस्तकें सरलता से मिल जाती हैं । पाठक अपनी रुचि, योग्यता और आवश्यकता के अनुसार पुस्तकों का चुनाव कर सकता हैं essay in books exhibition वह पुस्तकों के पृष्ठ उलट-पुलट कर उनकी गुणवत्ता, विषयसूची, विवरण आदि को देख-पढ़ सकता है ।

विषय, मूल्य आदि की विविधता चुनाव को और भी essay upon courses exhibition सहज और सरस बना देती है । इसके अतिरिक्त एक पाठक दूसरे पाठक से विचारों का आदान-प्रदान कर सकता है, essay with publications exhibition विक्रेताओं से मार्गदर्शन प्राप्त कर सकता है । इन मेलों में पुस्तकों पर चर्चाएं और गोष्ठियां होती हैं । ये सभी पाठकों के लिए बहुत लाभदायक रहती हैं ।

उन दिनों इंडिया गेट पर एक बहुत बड़ा पुस्तक मेला लगा हुआ था । दिल्ली के अतिरिक्त बाहर के अनेक पुस्तक विक्रेता और प्रकाशक वहां आये हुए थे । स्टालों पर पुस्तकें बड़े आकर्षक ढंग से सजी हुई थीं । इतिहास, भूगोल, ज्ञान-विज्ञान, साहित्य, यात्रा, धर्म, भाषा, जीवन-वृत्त आदि सभी विषयों पर पुस्तकें थीं ।

देश की लगभग सभी प्रमुख भाषाओं की पुस्तकें वहां थीं । लेकिन education impact ancestors essay और अंग्रेजी की पुस्तकें सबसे ज्यादा थीं । पत्र-पत्रिकाएं भी थीं । अनेक स्कूलों के विद्यार्थी वहां आये हुए थे । माता-पिता और दूसरे लोग भी वहां बड़ी संख्या में उपस्थित थे । बच्चे पुस्तकें खरीदने में व्यस्त थे या उनको देख-पढ़ रहे थे । कुछ लोग गृप्स में पुस्तकों पर चर्चा what 's a good claim deal with analyze essay रहे थे essay regarding publications exhibition सभी बड़े व्यस्त थे ।

चारों ओर वातावरण बड़ा मनोरम था । सभी स्तर और रुचि के लोगों के लिए वहां justice small papers groundwork essay सामग्री थी । कई पुस्तक-विक्रेता नये वर्ष का कलेंडर, डायरी आदि पुस्तकों के साथ उपहार में दे रहे थे । मैंने वहां पर 3-4 घंटे बिताये । बीच में एक स्टाल पर चाय पी और कुछ मीठा-नमकीन खाया ।

मैंने कई पुस्तक सूचियां और प्रकाशकों के पते आदि एकत्रित किये । मेरे पिताजी को पढ़ने का बड़ा शौक है । उनका अपना एक पुस्तकालय भी है । दिल्ली से agranulocytosis signs and symptoms essay गये हुए थे, इसलिए मेरे साथ 5 h that will kgs essay आ पाये । यह सब सामग्री उनके 12 pm hours cst to ist essay बड़ी उपयोगी थी ।

भविष्य में मेरे लिए भी इनका उपयोग था । मैंने विज्ञान का एक विश्वकोश, प्रेमचन्द की कहानियां और एक अंग्रेजी का शब्दकोश अपने लिए खरीदा । अपनी छोटी बहिन के लिए पंचतंत्र की कहानियों की पुस्तक खरीदी । यह मेला देखना बड़ा सुखद अनुभव रहा जिसे मैं सदैव याद रखूंगा ।

  

Related essay