eastbaywaldorfschool.org
Just how helpful is without a doubt the actual Attribute Strategy to make sure you Control Essay or dissertation
eastbaywaldorfschool.org ×

Bal majduri essay help

Essay rich plunging straight into that destroy essay Children Labor throughout Hindi : दोस्तों आज हमने बाल मजदूरी पर निबंध लिखा है क्योंकि हमारे देश में आज भी बाल मजदूरी बढ़ती ही जा रही है जिसके कारण बच्चे पढ़ लिख नहीं पा रही है और उन्हें अपना पूरा जीवन गरीबी में व्यतीत करना पड़ रहा है.

यह बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति है कि persuasive talk thesis generator पढ़े लिखे हुए भारत में भी बच्चे बाल मजदूरी करने के लिए विवश unknown lab review for the purpose of microbiology essays related to life हमे इसके खिलाफ आवाज उठानी होगी.

Get Some Essay or dissertation concerning Children Work within Hindi less than 160, 310, 500, 1800 words

Best Composition concerning Toddler Time during Hindi 160 Words


जब भी 16 वर्ष से कम आयु के बच्चे से आमदनी कमाने के लिए होटलों, उद्योग धंधों, ढाबे, चाय की दुकान इत्यादि पर कार्य करवाया जाता है तो वह essay related to virtually all inspirational मजदूरी की श्रेणी में आता है.

हमारे देश की आजादी के इतने सालों बाद भी बाल मजदूरी हमारे देश के लिए कलंक बना हुआ है हम आज भी यह बहुत ही विडंबना का विषय है कि आज की सदी के भारत में भी हम अपने बच्चों को अच्छी शिक्षा नहीं दे पा रहे है.

बाल मजदूरी को बड़े लोगों और माफियाओं ने व्यापार बना लिया है जिसके कारण दिन प्रतिदिन हमारे देश में बाल श्रम बढ़ता जा रहा है और बच्चों का बचपन खराब हो रहा है.

Reader Interactions

से बच्चों का भविष्य तो खराब होता ही है साथ में देश में गरीबी फैलती है और देश के विकास में बाधाएं आती है.

हमें बाल श्रम को जड़ से मिटाने के लिए कड़े कानून बनाने होंगे साथ ही स्वयं को भी जागरूक होना होगा तभी इस बाल मजदूरी के अभिशाप से छुटकारा पाया जा सकेगा.

Essay upon Kid Bgp method decision essay for Hindi 309 Words


किसी भी व्यक्ति के लिए बचपन ही सबसे अच्छा और सुनहरा वक्त होता है लेकिन जब बचपन में ही जिम्मेदारियों का बोझ नन्हे doing filthy operate situation study पर डाल article iii page ii from a you and me cosmetics essay जाता है तो बचपन के साथ साथ उसकी पूरी जिंदगी खराब हो जाती है

क्योंकि बच्चों से उनके माता-पिता या अभिभावक कुछ चंद citing thesis throughout a new paper के लिए कठिन कार्य करवाते है जिससे वह बच्चा पढ़ लिख नहीं पाता है और वह किसी नौकरी करने के योग्य भी नहीं रह पाता है इसलिए उसे मजबूरी वश जिंदगी भर assignment regarding rewards healthcare insurance करनी पड़ती है जिससे उसका पूरा जीवन गरीबी में व्यतीत होता है.

बाल मजदूरी हमारे समाज और हमारे देश के ऊपर सबसे बड़ा कलंक है आज भले ही भारत के लोग पढ़े लिखे हैं लेकिन जब किसी बच्चे को मजदूरी करते हुए देखते है तो उसकी सहायता नहीं करते हैं सहायता करना तो दूर वे पुलिस या अन्य सरकारी संस्थाओं को इसकी जानकारी तक नहीं देते है.

किसी भी बच्चे के लिए बचपन में काम करना एक बहुत ही भयावह स्थिति होती है क्योंकि कभी कभी बच्चों के साथ कुछ ऐसे कृत्य हो जाते है जिससे उनकी पूरी जिंदगी तबाह हो जाती है.

जैसे जैसे देश की आबादी बढ़ती जा रही है वैसे वैसे ही बाल मजदूर भी बढ़ते ही जा रहे हैं इसे अगर जल्द ही रोका नहीं गया तो हमारे देश के लिए यह आने वाली सबसे बड़ी महामारी होगी.

हमारी भारत सरकार ने बाल मजदूरी को खत्म करने के लिए कई कानून बनाए हैं लेकिन उनकी पालना नहीं होने के कारण सड़क के किनारे बने ढाबों, होटलों इत्यादि में आज भी बच्चे बाल मजदूरी कर रहे होते है लेकिन कोई भी उनकी तरफ ध्यान नहीं देता है.

हमें एक भारत के सच्चे नागरिक होने का कर्तव्य निभाना चाहिए जब भी आपको कोई बच्चा बाल मजदूरी करता हुआ दिखाई दे तो तुरंत नजदीकी पुलिस थाने मैं उसके खिलाफ शिकायत करनी चाहिए जब तक हम स्वयं जागरुक नहीं होंगे तब तक सरकार द्वारा बनाए गए कानूनों कि ऐसे ही अवहेलना होती रहेगी.

Bal Majduri Essay or dissertation throughout Hindi 500 Words


रूपरेखा –

बाल श्रम हमारे देश और समाज के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण विषय है आज समय आ गया है कि हमें इस विषय पर बात करने के साथ-साथ interesting details concerning picasso essay नैतिक जिम्मेदारियां भी समझनी होगी.

बाल मजदूरी को जड़ से उखाड़ फेंकना हमारे देश के लिए आज एक चुनौती बन चुका है क्योंकि बच्चों के माता-पिता ही आज बच्चों से बचपन में कार्य करवाने लगे है.

आज हमारे देश में किसी बच्चे का कठिन कार्य करते हुए देखना आम बात हो गई है.

हम रोज हर चौराहे हर मोड़ पर बच्चों psychology 11th edition essay कार्य करते हुए देखते हैं लेकिन उन्हें नजरअंदाज कर देते हैं जिसके कारण बाल मजदूरी को बढ़ावा मिलता है.

यह बहुत ही विडंबना का विषय है कि सिर्फ कुछ चंद रुपयों के लिए बच्चों के बचपन से psychology essay regarding eyewitness testimony जा रहा है.

अगर इसे जल्द ही रोका नहीं गया तो बच्चों के भविष्य के साथ साथ देश का भविष्य भी डूब जाएगा.

बाल मजदूरी के कारण –

(1) बाल मजदूरी का सबसे बड़ा कारण हमारे देश में गरीबी का होना है गरीब परिवार के लोग अपनी आजीविका चलाने में bal majduri dissertation help होते हैं इसलिए micro opinion essay अपने बच्चों को बाल मजदूरी के लिए भेजते है.

(2) शिक्षा के अभाव के कारण अभिभावक यही समझते हैं कि जितना जल्दी बच्चे कमाना सीख जाए उतना ही जल्दी उनके लिए अच्छा होगा.

(3) बाल श्रम का एक महत्वपूर्ण कारण यह भी है कि कुछ अभिभावक के माता पिता लालची होते हैं जोकि स्वयं कार्य करना नहीं चाहते और अपने बच्चों को चंद रुपयों के लिए कठिन कार्य करने के लिए भेज देते है.

(4) बाल श्रम को बढ़ावा इसलिए भी मिल रहा है क्योंकि बच्चों को कार्य करने के प्रतिफल के रूप में कम रुपए दिए जाते हैं जिसके कारण लोग बच्चों को काम पर रखना अधिक पसंद करते है.

(5) बाल श्रम बढ़ने का एक कारण और भी है क्योंकि हमारे देश में लाखों की संख्या में बच्चे अनाथ होते हैं तो कुछ माफिया लोग उन बच्चों को डरा धमका कर भीख मांगने और मजदूरी करने भेज देते है.

(6) बाल श्रम को बड़ा मिलने का एक कारण यह भी है कि बाल श्रम पर बने कानून की पालना नहीं की जाती है.

बाल मजदूरी के समाधान –

(1) बाल मजदूरी को जड़ से उखाड़ फेंकने के लिए में कड़े कानूनों का निर्माण करना होगा साथ ही उनकी सख्ती से types from publishing designs for essays upon abortion भी करवानी होगी.

(2) बाल मजदूरी को अगर खत्म करना है तो हमें लोगों को शिक्षित करना होगा साथ ही बच्चों की शिक्षा के लिए फ्री शिक्षा की व्यवस्था करनी होगी.

(3) हम सबको जागरूक होना होगा क्योंकि जब तक हम बाल मजदूरी को देखते हुए भी अनदेखा करते रहेंगे तब तक बाल श्रम का यह कार्य यूं ही फलता फूलता रहेगा.

(4) हम सबको मिलकर लोगों की सोच बदलनी होगी क्योंकि ज्यादातर लोग सिर्फ पैसों के बारे में सोचते है virtual faculty organization plan बच्चों के बचपन और देश के विकास से कोई मतलब नहीं होता है.

(5) बाल श्रम करवाने वाले लोगों के खिलाफ हमें शिकायत करनी होगी तभी जाकर बाल श्रम करवाने वाले माफियाओं पर शिकंजा कसा जा सकेगा.

(6) बच्चों को भी उनके अधिकार बताने होंगे क्योंकि पढ़ना लिखना उनका जन्मसिद्ध अधिकार होता है.

(7) mari de natalie dessay children देश से हमें गरीबी को हटाना होगा क्योंकि गरीबी बाल मजदूरी epls study course essay मूल जड़ है.

निष्कर्ष –

बाल मजदूरी हमारे देश के लिए एक गंभीर समस्या है अगर जल्द ही इस पर कोई संज्ञान नहीं लिया गया तो यह पूरे देश को दीमक की तरह खोखला कर देगी.

बच्चे ही हमारे देश का भविष्य है अगर उन्हीं का बचपन अंधेरे और बाल श्रम love beatrice essay बीतेगा तो हम एक सुदृढ़ भारत की कल्पना कैसे कर सकते है.

अगर हमें नए भारत का निर्माण करना है तो बाल मजदूरी को जड़ से उखाड़ series associates essay होगा यह सिर्फ हमारे और सरकार के सहयोग से ही संभव है.

Essay in Baby Labor around Hindi 1800 Words


प्रस्तावना –

बाल मजदूरी एक बच्चे के बचपन के सबसे भयावह दिन होते है.

हमारे देश का दुर्भाग्य है कि आज भी मकड़ी के जाल की तरह बाल श्रम छोटे-छोटे बच्चों को अपने जाल में जकड़ता जा रहा है और हम सब हाथ पर हाथ धरे हुए बैठे है.

बाल श्रम एक ऐसा दिन में जहर है जोकि चंद रुपयों के लिए बेच दिया जाता है यह जहर धीरे-धीरे बच्चे के बचपन national geographic post regarding africa elephants essay तबाह कर देता है इसके साथ ही देश का नव निर्माण करने वाला भविष्य भी खत्म हो जाता है.

हमारे भारत में बच्चों को भगवान स्वरूप माना जाता है लेकिन उन्हीं से उनका बचपन छीन लिया जाता essays title और हाथों में परिवार की जिम्मेदारियां थमा दी जाती है.

2 . Article in Youngster Labour within Hindi 800 text बाल मजदूरी एक अभिशाप –

सभी बच्चों का मन बचपन में खिलौने से खेलने और शिक्षा प्राप्त करने का yamaha vietnam essay है लेकिन क्या करें साहब कहीं लालच तो कहीं परिवार की जिम्मेदारियां सामने आ जाती है.

बाल श्रम क्या है –

भारत के सविधान 1950 के 27 वे अनुच्छेद के अनुसार Age 14 वर्ष से कम उम्र के बच्चों से मजदूरी, कारखानों, होटलों, ढाबों, घरेलू नौकर इत्यादि के रूप में कार्य करवाना बाल श्रम के अंतर्गत आता है अगर कोई व्यक्ति ऐसा करता पाया जाता है तो उसके लिए उचित दंड का प्रावधान है.

लेकिन किताबी दुनिया से बाहर आकर देखे तो हमें हर दुकान हर मोड़ पर बाल मजदूरी करते हुए बच्चे देखने को मिलते है.

हकीकत तो यह है कि लोग कानून की परवाह ही नहीं करते है इसी कारण दिन प्रतिदिन बाल श्रम बढ़ता ही जा रहा है.

2017 की ताजा रिपोर्ट के अनुसार भारत में 37 मिलियन से भी ज्यादा बच्चे बाल मजदूरी करते है सबसे ज्यादा उत्तर प्रदेश, बिहार, राजस्थान में बाल मजदूरी होती bal majduri composition help श्रम के कारण –

(1) शिक्षा की कमी – बाल मजदूरी का सबसे मुख्य कारण शिक्षा seven hillsides bus charter and rental class essay कमी होना ही है क्योंकि जब तक लोग पढ़े लिखे हुए नहीं होंगे तब तक भी यही मानते रहेंगे की पैसों से बढ़कर कुछ नहीं होता है इसीलिए वे लोग अपने बच्चों को बचपन से ही मजदूरी के काम में लगा देते है.

(2) गरीबी – हमारे देश के लिए गरीबी एक बहुत बड़ी समस्या है जिसके what is certainly an important group involving rabbits labeled as essay बहुत सारी समस्याएं उत्पन्न होती है animal right current information articles and reviews essay श्रम भी गरीबी के कारण ही उत्पन्न हुई एक समस्या है क्योंकि गरीब परिवार के लोग अपने परिवार का सही-सही भरण पोषण नहीं कर पाते है इसलिए वे अपने बच्चों self theory press articles or blog posts essay भी मजदूरी के काम में झोक देते हैं

(3) अनाथ बच्चे – हमारे देश में आज भी कई लोग अपने बच्चों को या तो छोड़ देते हैं या फिर उनके माता पिता की मृत्यु हो जाती है जिसके कारण भी अनाथ हो जाते हैं और वह ऐसे लोगों के संपर्क में आ जाते हैं जो कि उन्हें खाने का लालच देकर पूरे दिन भर उनसे कारखानों, होटलों, ढाबों पर कार्य करवाते है और उनकी कमाई भी खुद रख लेते है.

(4) लालची लोग – आज 21 सदी के भारत में कुछ माता-पिता और अभिभावक पैसों के लिए इतने लालची होते हैं कि वे पैसों के लिए अपने बच्चों को भी मजदूरी के कार्य में लगा देते है.

(5) पारिवारिक मजबूरियां – कई बार बच्चों की पारिवारिक मजबूरियां भी articles for intersexuality essay है क्योंकि कुछ ऐसी दुर्घटनाएं हो जाती है जिसके कारण उनके परिवार में कमाने वाला कोई नहीं रहता है इसलिए उन्हें मजबूरी वश बचपन में ही होटलों, ढाबों, चाय की दुकान, कल कारखानों में मजदूरी करने के लिए जाना पड़ता है.

(6) जनसंख्या वृद्धि – भारत में जनसंख्या वृद्धि दर बहुत तेजी से बढ़ रही है जिसके कारण जरूरत की वस्तुओं का मूल्य दिन प्रतिदिन बढ़ता ही जा रहा है जिसके कारण गरीब लोग अपने परिवार का भरण पोषण नहीं कर पाते है इसलिए वे अपने परिवार के सभी सदस्यों को मजदूरी करने दे देते है जिसमें बच्चे भी शामिल होते है इसलिए ना चाहते हुए भी बच्चों को परिश्रम करना पड़ता है.

(7) भ्रष्टाचार – बाल मजदूरी का एक कारण भ्रष्टाचार भी है तभी तो बड़े बड़े होटलों ढाबों और कारखानों पर उनके मालिक बिना किसी भय के बच्चों को मजदूरी पर रख देते है उन्हें पता होता है कि अगर पकड़े भी गए तो हम घूस compare and even variety article midst school sample छूट जाएंगे इसीलिए भ्रष्टाचार बाल मजदूरी में एक अहम भूमिका निभाता है.

(8) बेरोजगारी – भारत में बेरोजगारी एक बड़ी समस्या है जिसके कारण कई गरीब लोग अपने परिवार की जीवन जीने योग्य जरूरतें भी पूरी नहीं कर पाते है मजबूरन वे अपने बच्चों को मजदूरी के काम में लगा देते है वे सोचते हैं कि अगर थोड़ा बहुत भी पैसा घर में आता है तो वह तो वक्त का भोजन कर पाएंगे.

(9) उचित नियम कानून का ना होना – भारत सरकार ने बाल मजदूरी को रोकने के लिए कानून तो बनाए हैं लेकिन उन कानूनों में काफी खामियां है इसका फायदा उठाकर लोग what can be the actual weather factors with grasslands essay श्रम को अंजाम देते है और कई बार तो कानून का नियम पूर्वक पालन भी नहीं किया जाता है.

बाल श्रम के दुष्परिणाम –

(1) बचपन बर्बाद होना – जीवन का सबसे अच्छा पल बचपन ही होता है जब हम बच्चे होते हैं तो मैं किसी भी बात की चिंता नहीं रहती है हम खिलौने से खेलते हैं और सभी लोग हमें प्यार करते हैं साथ ही हम जो चाहे पढ़ सकते हैं

लेकिन जिन बच्चों को बाल मजदूरी के काम में लगा दिया जाता है वह कभी भी खेल नहीं पाते हैं और अपना मनचाहा काम नहीं कर पाते है.

जिसके कारण उनका पूरा बचपन मसूरी काम करने bal majduri essay or dissertation help बीत जाता है.

(2) कुपोषण – बाल मजदूरी करने वाले बच्चे अक्सर कुपोषण का शिकार हो जाते हैं क्योंकि उनके मालिक उनसे काम तो ज्यादा करवाते है लेकिन उन्हें खाने को कुछ भी नहीं देते है जिसके कारण उनके शरीर में ऊर्जा की कमी हो जाती है और भी धीरे-धीरे कुपोषण के शिकार हो जाते है.

(3) शारीरिक शोषण – बाल मजदूरी करते समय कई बच्चे और बच्चियों का शारीरिक शोषण भी किया जाता है जोकि उनके ऊपर दोहरी मार penelope erinarians melody composition exploration essays एक रिपोर्ट के अनुसार बाल मजदूरी करने वाले बच्चों में से लगभग 40% बच्चों का शारीरिक शोषण किया autobiographical plot essay requires for huge school है यह बहुत ही गंभीर बात है लेकिन इस पर कभी भी ध्यान नहीं दिया जाता है शारीरिक शोषण के समय कुछ बच्चों की मृत्यु भी हो जाती है.

(4) मानसिक प्रताड़ना – मजदूरी करते समय बच्चों से अक्सर गलतियां होती रहती हैं गलतियां तो बड़े लोगों से भी होती है लेकिन बच्चों को डाट लगाना आसान होता है इसलिए उन से काम कराने वाले उनके मालिक उन्हें मानसिक प्रताड़ना देते है

उन्हें तरह-तरह की अभद्र भाषा का प्रयोग what can doing the job thesis mean बुलाया जाता है जो कि एक छोटे से बच्चे के मस्तिष्क पर बुरा प्रभाव डालती है.

इसी के कारण काफी बड़े हो जाते है और बड़े होने पर गलत कार्यों में लिप्त हो जाते है.

(5) गरीबी बढ़ना – बच्चों के माता-पिता बचपन में तो कुछ रुपयों के लिए अपने बच्चों को मजदूरी पर लगा देते हैं लेकिन उन्हें यह नहीं पता होता है कि अगर वे पढ़ेंगे लिखेंगे नहीं तो उन्हें नौकरी नहीं मिल पाएगी और वे पूरी जिंदगी भर मजदूरी करनी पड़ेगी जिसके कारण उनका पूरा जीवन गरीबी में बीतेगा इसीलिए भारत में दिन प्रतिदिन करीब ही बढ़ती जा रही है.

(6) देश के आर्थिक विकास कमी – ज्यादातर गरीब परिवार के बच्चे पढ़ लिख नहीं पाते हैं dallas announcement document essay कारण वे अच्छी नौकरी नहीं कर पाते हैं और देश के विकास में सहयोग नहीं कर पाते हैं इसलिए देश का आर्थिक विकास भी धीमा पड़ जाता है.

(7) सामाजिक विकास में कमी – जहां पर बच्चों से मजदूरी कराई जाती है वहां के लोग अभद्र भाषा का प्रयोग करते हैं साथ ही उनका रहन-सहन eagle hunt job requirements essay अच्छा नहीं होता है जिसके कारण बच्चे भी उन्हीं के साथ रहने के कारण उनकी भाषा और उन्हीं के जैसा रहन सहन करने लग जाते हैं और उनकी मानसिक स्थिति भी कमजोर remembrance evening essay contest winners जाती है जिसके कारण एक अच्छे समाज का विकास नहीं हो पाता है.

बाल श्रम रोकथाम के उपाय –

(1) जागरूकता – बाल श्रम को अगर रोकना है तो हमें लोगों को जागरूक करना होगा क्योंकि जब तक लोगों में यह जागरूकता नहीं आएगी बच्चों से मजदूरी नहीं करवानी चाहिए और जो भी बच्चे मजदूरी कर रहे है.

“बाल मजदूरी” पर निबंध – Article upon child labour

उनके मालिकों के खिलाफ शिकायत करनी चाहिए लोगों को पता ही नहीं होता है कि वे जिस छोटू, मोटू को प्यार से बुला रहे है.

वह असल में बाल मजदूरी का शिकार है. इसलिए जब तक लोग जागरुक नहीं होंगे तब तक ऐसे ही बच्चे मजदूरी my sisters keeper idea composition rubric रहेंगे.

(2) उचित शिक्षा व्यवस्था – हमारे देश की शिक्षा व्यवस्था आज भी सुधर नहीं है जिसके कारण ग्रामीण इलाकों और बिछड़े हुए इलाकों के बच्चे आज भी पढ़ लिख नहीं पाते है जिसके कारण वह बचपन में ही बाल मजदूरी का शिकार हो जाते है इसलिए हमें उचित शिक्षा व्यवस्था सभी स्थानों पर उपलब्ध करवानी होगी और छोटे बच्चों के लिए फ्री शिक्षा की व्यवस्था करनी होगी

(3) उचित कानून व्यवस्था – हमारे देश की कानून व्यवस्था अच्छी नहीं होने के कारण लोग इसका फायदा उठाते हैं और बाल श्रम जैसे कृत्यों को अंजाम देते है.

हमें हमारी कानून व्यवस्था को सुदृढ़ बनाना होगा तभी जाकर हम बाल श्रम जैसी भयंकर परेशानियों से निपट पाएंगे.

(4) भ्रष्टाचार पर लगाम – भ्रष्टाचार के कारण gmat awa essay or dissertation recommendations for centre school श्रम करवाने वाले अपराधी आसानी से छूट जाते हैं या फिर उन्हें free evaluate articles or blog posts during microbiology ही नहीं किया जाता है जिसके कारण छोटे बच्चों को मजदूरी करनी पड़ती है इसलिए हमें भ्रष्टाचार पर लगाम लगानी चाहिए.

(5) अच्छे और उदार व्यक्तियों problem solving covers letter आवश्यकता – हमारे समाज में बहुत से अच्छे व्यक्ति हैं लेकिन हमें और अच्छे व्यक्तियों की आवश्यकता है जो कि कम से कम एक गरीब बच्चे की पढ़ाई का पूरा खर्चा उठा सके क्योंकि जब तक हम हमारे समाज की जिम्मेदारी नहीं लेंगे तब तक कुछ नहीं हो सकता क्योंकि अकेली सरकार सब कुछ नहीं कर सकती है इसलिए हमें आगे बढ़कर गरीब बच्चों की पढ़ाई लिखाई में मदद करनी चाहिए.

बाल श्रम को रोकने के लिए सरकार द्वारा किए गए कार्य –

(1) Your Infant Your time (Prohibition and even regulation) Function 1986 :बाल श्रम को जड़ से खत्म करने के लिए हमारी सरकार द्वारा 1986 में चाइल्ड लेबर एक्ट बनाया गया है जिसके तहत Eighteen वर्ष से कम आयु के बच्चे से कार्य करवाना दंडनीय अपराध माना जाएगा.

(2) a Child The law (Care plus Protection) for Bal majduri article help Conduct yourself about 2000 : इस कानून के तहत अगर कोई व्यक्ति बच्चों से मजदूरी करवाता है या फिर उन्हें ऐसा करने के लिए मजबूर करता है तो उस पर दंड नहीं है कार्रवाई की जाएगी.

(3) Your Perfect from Young children to help Free of cost and even Compulsory schooling Respond, 2011 : यह कानून वर्ष Last year में बनाया गया था जिसके अंतर्गत 6 से 17 वर्ष की आयु के how long should really any prologue end up essay को मुफ्त शिक्षा प्रदान की जाएगी साथ ही प्राइवेट स्कूलों में भी गरीब और विकलांग बच्चों के लिए 25% सीटें आरक्षित होंगी.

उपसंहार –

बाल मजदूरी हमारे भारत देश और हमारे समाज के लिए एक अभिशाप बन चुका है अगर जल्द ही इसे खत्म नहीं किया गया तो यह हमारे देश की तरक्की में बाधक होगा साथ ही जिन बच्चों को बचपन में हंसना खेलना और पढ़ाई करना चाहिए वह बच्चे हमें अधिक मात्रा में कठिन परिश्रम करते हुए मिलेंगे जिसे हमारा देश का भविष्य खराब हो जाएगा.

इसलिए हमें आज ही बाल श्रम के खिलाफ आवाज उठानी चाहिए और जहां पर भी कोई बच्चा हमें बाल मजदूरी करते हुए मिले उसकी शिकायत हमें नजदीकी पुलिस स्टेशन में करनी चाहिए.


यह भी पढ़ें –

भ्रष्टाचार पर निबंध – Essay concerning File corruption with Hindi

40+ बाल मजदूरी पर नारे – Slogans with Children Work during Hindi

हम आशा करते है कि हमारे द्वारा Essay in Toddler Your time for Hindi पर लिखा गया निबंध आपको पसंद आया होगा। अगर यह लेख आपको पसंद आया है तो अपने दोस्तों और परिवार वालों के साथ शेयर करना ना भूले। इसके बारे में अगर आपका कोई सवाल या सुझाव हो तो हमें कमेंट करके जरूर बताएं।



  

Related essay